Notice: Function WP_Scripts::localize was called incorrectly. The $l10n parameter must be an array. To pass arbitrary data to scripts, use the wp_add_inline_script() function instead. Please see Debugging in WordPress for more information. (This message was added in version 5.7.0.) in /var/www/vhosts/texttreasure.world/httpdocs/wp-includes/functions.php on line 5831
निरंतर लिखने की आदत कैसे बनायें - Text Treasure
Skip to content
Home » निरंतर लिखने की आदत कैसे बनायें

निरंतर लिखने की आदत कैसे बनायें

इस लेख में मैं बताऊंगा कि निरंतर लिखने की आदत कैसे बनायें जिससे कि आप बिना रुके लगातार नए लेख लिख सकें। कुछ लेखकों के लिए सबसे बड़ी दिक्कत यही होती है कि कई बार उनका मन बिलकुल भी उनका साथ ही नहीं देता है।  जब भी वे लिखने बैठते हैं तब उनका मन कुछ न कुछ बिरोध करने लग जाता है जिससे उन्हें अपना काम बीच में ही छोड़ना पड़ता है। अगर आपके साथ भी कुछ ऐसा ही होता है तब यह लेख जरूर पढ़िए। यहाँ दी गई जानकारी आपके लिए अवश्य ही बहुत उपयोगी सिद्ध होगी।

यह टास्क रोज कीजिये

रोज कोई एक ही लाइन 1000 बार लिखिए।

यह टास्क आपको बहुत फ़ालतू का लग सकता है लेकिन ऐसा करने से आपके अंदर एक स्थिरता आएगी और आप ऐसे कामों को ही पूरा करना सीख जायेंगे जिनके बिरोध में आपका मन बार-बार आकर खड़ा हो जाता है। आपको यह लाइन 1000 बार इसीलिये नहीं लिखनी है कि आप को इससे कुछ मिलेगा ही बल्कि आपको ये lines बिना किसी मकसद के रोज लिखनी है।

एक सप्ताह में ही आप देखेंगे कि आपका लिखने के प्रति रुझान बढ़ता जा रहा है।  आप कुछ दिनों बाद अपने लेख आराम से पूरा लिख सकेंगे।  दरअसल ऊपर दिए गए टास्क के द्वारा आपका मन ऐसे ट्रैन हो जाता है कि जो काम आपके मन के लिए फालतू के, या बोरिंग भी लगते हैं वे काम भी करते हुए आपको कोई संकोच नहीं होता और आप वे काम आराम से करते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.